2.7 अरब यूजरों का डाटा रखने पर फेसबुक को देना होगा 34 हजार करोड़ का जुर्माना

नई दिल्ली – 24 जुलाई 2019

अमेरिकी नियामकों की ओर से बुधवार को फेसबुक के साथ हुए समझौते का खुलासा किए जाने की उम्मीद है जिसमें कथित पांच अरब डॉलर (34 हजार करोड़ रुपये) का जुर्माना सोशल नेटवर्किंग साइट के लिए सौदे का सबसे सस्ता हिस्सा हो सकता है।

सूत्रों के मुताबिक संघीय व्यापार आयोग (एफटीसी) द्वारा की गई लंबी जांच के बाद हुआ समझौता फेसबुक को डेटा संरक्षण में खामियों के मामले में मुकदमे से बचने की अनुमति देता है।

द वाल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार फेसबुक के सीईओ एवं संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को समझौते के क्रियान्वयन के लिए व्यक्तिगत रूप से जिम्मेदार ठहराया जाएगा। फेसबुक के पास 2.7 अरब से अधिक यूजरों का डाटा है। युवा अरबपति को तीन-तीन महीने के अंतराल पर यह प्रमाणित करने के लिए एफटीसी के पास जाना होगा कि उनकी कंपनी समझौते का पालन कर रही है।

सूत्रों के मुताबिक वाल स्ट्रीट जर्नल ने कहा कि स्थिति की जानकारी रखने वाले एक अज्ञात सूत्र ने अखबार से कहा कि कोई भी झूठा बयान दंड को आमंत्रित करेगा। अनुपालन की जिम्मेदारी कंपनी के निदेशक मंडल की भी होगी। वाशिंगटन पोस्ट ने कहा कि इसके अतिरिक्त एफटीसी समझौते के साथ शिकायत में यह भी बताएगा कि फेसबुक ने फोन नंबरों और चेहरा पहचानने वाले टूल के इस्तेमाल को लेकर किस तरह यूजर्स को गुमराह किया।

LEAVE A REPLY