राजधानी में बरसी आग, पारा 43 डिग्री के ऊपर चढ़ा

Couple staying hydrated after workout on a bridge

नई दिल्ली – 1 मई 2019

राजधानी में गर्मी और लू नेहराम कर दिया है । मंगलवार को नौ साल के बाद अधिकतम तापमान 43.7 डिग्री तापमान रिकॉर्ड किया गया। इस बीच दिल्ली वालों को लू के थपेड़े का सामना करना पड़ा। शाम के समय आसमान में बादल छाने से लोगों को थोड़ी राहत मिली।

सूत्रों के मुताबिक मौसम विभाग के अनुसार, अप्रैल माह इस सीजन का अब तक का सबसे गर्म दिन रिकॉर्ड हुआ। इससे पहले 2010 में अप्रैल माह में दिल्ली का अधिकतम तापमान 43.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। 2011 में अप्रैल का अधिकतम तापमान 40.8 डिग्री, 2012 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 38.7 डिग्री सेल्सियस, 2013 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 40.2 डिग्री सेल्सियस, 2014 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 41.0 डिग्री सेल्सियस, 2015 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस, 2016 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस, 2017 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 43.2 डिग्री सेल्सियस और 2018 में अप्रैल माह का अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

मौसम विभाग के आंकड़ों पर गौर करें तो 2016 के बाद से अप्रैल माह में दिल्ली के तापमान में लगातार बढ़ोतरी दर्ज हो रही है। वहीं बुधवार को 42 डिग्री अधिकतम तापमान के साथ आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे और 30-40 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से धूल भरी आंधी आने की संभावना रहेगा। इसके साथ ही बृहस्पतिवार और शुक्रवार को दिल्ली में आंधी के साथ हल्की बारिश होने की संभावना रहेगी।
शहर के तापमान में हो रही लगातार बढ़ोतरी से आमजन के साथ पशु-पक्षियों का बुरा हाल है। मंगलवार को शहर का तापमान 44 डिग्री पार कर गया। सुबह से शाम तक चिलचिलाती धूप में लोग छांव तलाशते नजर आए। लोगों का कहना है कि घर से निकलते ही ऐसा लगता है कि जैसे आसमान से आग बरस रही हो। वहीं, गर्मी बढ़ने के साथ ही मिट्टी के बर्तनों की बिक्री शुरू हो गई है। मांग बढ़ने पर मिट्टी के बर्तन विक्रेताओं ने शहर में जगह-जगह दुकानें लगा रखी हैं। जहां 100 से 250 रुपये तक की कीमत में घड़ा और सुराही मौजूद हैं।

LEAVE A REPLY