पीएम मोदी बोले असम हो या पश्चिम बंगाल कांग्रेस चायवाले को नही देखना चाहती

असम – 30 मार्च 2019

असम के डिब्रूगढ़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सिर्फ एक चायवाला ही चायवालों का दर्द समझ सकता है। कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें चौकीदार से नफरत है। उन्हें चायवालों से भी दिक्कत है। मैं सोचता था कि उन्हें बस एक ‘चायवाले’ से दिक्कत है, लेकिन जब मैं देश भर में घूमा तो पता लगा कि पश्चिम बंगाल हो या असम, वे चाय से जुड़े लोगों को देखना ही नहीं चाहते।

सूत्रो के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि आपके विश्वास के कारण ही मैं देश के, असम के गरीब, वंचित, पीड़ित आदिवासी बहन-भाइयों के जीवन को बदलने का प्रयास कर पाया हूं। आजादी के 70 साल बाद भी असम के केवल 40 फीसदी घरों में बिजली पहुंची थी, लेकिन आज लगभग हर घर तक बिजली पहुंच गयी है। ये सब आपके आशीर्वाद से ही संभव हुआ है।
उन्होंने कहा कि असम के 27 लाख परिवारों को हर वर्ष पांच लाख तक का मुफ्त इलाज, करीब 50 लाख मुद्रा लोन देकर लाखों युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ना आपके साथ के कारण हुआ है। असम के पांच लाख गरीबों को पक्के घर देना, पांच लाख तक की आय को टैक्स फ्री करना, असम की सांस्कृतिक विरासत की रक्षा हो या घुसपैठियों को बाहर करना हो, सब आपके आशीर्वाद से हो पाया है।

आंकड़ो के अनुसार पीएम मोदी ने कहा कि भारत ने पहली बार आतंकियों के घर में घुसकर मारा, लेकिन कांग्रेस परेशान है। भारत के साथ पूरी दुनिया खड़ी हो गई, लेकिन कांग्रेस की नींद उड़ गई। आप सब इन बातों से खुश हैं, लेकिन दो जगहों में खुशी नहीं है। उसमें एक जगह है कांग्रेस का परिवार और दूसरा आतंकियों का घर-बार। 11 अप्रैल को जब आप कमल के फूल के सामने वाला बटन दबाएंगे तो इन्हीं दो जगहों पर सन्नाटा छाने वाला है।

डिब्रूगढ़ के बाद पीएम गोहपुर पहुंचे। यहां भी उन्होंने चुनावी रैली को संबोधित किया। पीएम ने रैली में आए लोगों से पूछा- मैं एक चौकीदार हूं, मैं एक चौकीदार हूं…आप भी हैं न?

LEAVE A REPLY