पीएम मोदी बोले – नागरिकता बिल विरोध पर पीछे नही हटेगी सरकार

नई दिल्ली – 9 फरवरी 2019

लोकसभा चुनाव 2019 के मद्देनजर पूर्वोत्तर के मिशन पर निकले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को असम की धरती पर कदम रखते ही नागरिकता संशोधन विधेयक के मुद्दे पर विरोध का सामना करना पड़ा था लेकिन प्रधानमंत्री ने इस मुद्दे पर साफ संकेत दिए है कि सरकार सिटिजनशिप बिल पर पीछे नहीं हटने जा रही है पीएम मोदी ने कहा कि हमसे अलग हुए देशों के धार्मिक अल्पसंख्यक यानी हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध, पारसी और ईसाई मां भारती की संतानें हैं और उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है. उन्होंने कहा कि नागरिकता से जुड़े कानून को लेकर बहुत बड़ा भ्रम फैलाया जा रहा है और सरकार असम और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों की भाषा-संस्कृति और संसाधनों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है

आंकड़ो के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी अपनी दो दिवसीय पूर्वोत्तर यात्रा पर शुक्रवार को जब गुवाहाटी पहुंचे तब नागरिकता संशोधन विधेयक, 2016 का विरोध कर रहे असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने उन्हें काले झंडे दिखाए इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह विषय सिर्फ असम या नॉर्थ ईस्ट से जुड़ा नहीं है, बल्कि देश के अनेक हिस्सों में मां भारती पर आस्था रखने वाली ऐसी संतानें हैं, ऐसे लोग हैं जिनको अपनी जान बचाकर भारत आना पड़ा है

सूत्रों के अनुसार नरेंद्र मोदी ने असम की धरती से विपक्ष पर जमकर निशाना साधा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई रॉबर्ट वाड्रा से हफ्ते में तीसरे दिन प्रवर्तन निदेशालय में पूछताछ हो रही है, तो वहीं पूर्व वित्त मंत्री भी ईडी के दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं इस बीच, कांग्रेस राफेल के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा रही है और राहुल गांधी अपनी हर रैली में ‘चौकीदार चोर है’ के नारे लगवा रहे हैं पीएम मोदी ने इसका जवाब दिया कि ये पूरा देश देख रहा है कि चौकीदार की चौकसी से कैसे भ्रष्टाचारी बौखलाए हुए हैं और सुबह-शाम मोदी-मोदी के नाम की रट लगाए हुए हैं

भारत रत्न को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना

पीएम ने कहा कि आखिर ऐसा क्यों रहा कि कुछ लोगों के लिए जन्म लेते ही उनके लिए भारत रत्न तय हो जाता था और देश के मान-सम्मान के लिए जिन्होंने जीवन लगा दिया उनको सम्मानित करने के लिए दशक लग जाते थे ? इसका जवाब असम सहित भारत का कोना-कोना मांग रहा है

बांगलादेशी घुसपैठियों का मुद्दा उठाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि घुसपैठियों के लिए असम सहित देश के किसी भी हिस्से में कोई जगह नहीं है देश को घुसपैठियों से मुक्त करने के लिए हमने हर बार जनता की आवाज को बुलंद किया है. यही कारण है बांग्लादेश से हो रही घुसपैठ को रोकने के लिए सरकार ने छितमहल समझौता किया, और अब भारत-बांग्लादेश सीमा को पूरी तरह सील करने की तरफ तेजी आगे बढ़ रहे हैं

LEAVE A REPLY