आप मंत्री का बयान – कांग्रेस व आप के गठबंधन से रोका जा सकता है भाजपा की जीत को

नई दिल्ली – 9 फरवरी 2019

उत्तर भारत में चलती कड़ाके की ठंड के साथ देश की राजधानी दिल्ली में सियासत गरमाई हुई है। लोकसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है, वहीं सियासी दलों में भी गठजोड़ का दौर चरम पर है। कोई दल किसी से दूरी बना रहा है तो कोई किसी को साथ लाने की जुगत में है। ऐसे में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच भी साथ आने को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई है। एक ओर कुछ लोग इस गठबंधन से इनकार कर रहे हैं तो कोई इस गठबंधन से अपार संभावनाएं जता रहा है।
आंकड़ो के अनुसार आम आदमी पार्टी सरकार में मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने बयान मे कहा कि वह चाहते हैं कि यह आप और कांग्रेस का गठबंधन हो। वहीं कहा जा रहा है कि शनिवार (9 फरवरी) को दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी मुलाकात कर सकते हैं और उनके बीच आप कांग्रेस गठबंधन को लेकर बात हो सकती है।

मंत्री राजेंद्र पाल नेपत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा है कि गठबंधन का फैसला आम आदमी पार्टी की पीएसी लेगी। लेकिन उनकी निजी राय है कि अगर यह गठबंधन होता है तो बीजेपी 150 के आंकड़े को पार भी नहीं कर पाएगी।

राजेंद्र पाल ने आगे कहा कि अगर गठबंधन नहीं हुआ तो बीजेपी फिर 200 के आंकड़े तक पहुंच जाएगी, लेकिन दोनों ही सूरतों में हार बीजेपी की होगी। राजेंद्र पाल के इस बयान से काफी हद तक साफ है कि आप गठबंधन करना चाहती है लेकिन कांग्रेस अभी भी इस मामले में सोचना चाहती है और इससे होने वाले राजनीतिक फायदे नुकसान के बारे में सोच रही है।

आंकड़ो के अनुसार शीला दीक्षित को जब से दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की कमान मिली तब से ही उनका राग बदल गया है। अब वह कांग्रेस-आप गठबंधन पर सकारात्मक दिखती हैं और किसी भी फैसले के लिए राहुल गांधी के निर्णय की बात कहती हैं। वह कहती हैं कि जो भी राहुल कहेंगे वही होगा।

 

LEAVE A REPLY