नेहरू ने सबसे पहले खरीदे थे दसाॅल्ट कम्पनी से तूफानी विमान

13 नवम्बर 2018

बहुचर्चित राफेल विमान डील पर देश में जारी राजनीतिक घमासान के बीच फ्रांस की दसॉल्ट कंपनी के सीईओ के इंटरव्यू के दौरान फिर से आग पकड़ा ली है

दसॉल्ट एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने समाचार एजेंसी ANI को इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा लगाए गए सभी आरोपों का जवाब दिया.

ट्रैपियर ने इंटरव्यू के दौरान उन्होंने भारत के साथ साझेदारी पर जोर दिया. ट्रैपियर ने राहुल गांधी को जबाव देते हुए कहा कि भारत के साथ उनकी साझेदारी 1953 में शुरू हुई थी, जब तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की अगुवाई में भारत-दसॉल्ट के बीच करार हुआ था.

दसॉल्ट एविएशन की आधिकारिक वेबसाइट (www.dassault-aviation.com) के मुताबिक, भारत और दसॉल्ट एविएशन के बीच 1953 में करार हुआ था. वेबसाइट के मुताबिक, 1953 में भारत ही कंपनी का पहला एक्सपोर्ट कस्टमर ( विदेशी कस्टमर) बना था

इतिहास को खंगाले तो आपको मालूम पड़ेगा कि भारत ने 1953 में फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन से 71 Ouragan विमान खरीदे थे. भारत ने इस विमान का नाम तूफानी रखा था. ये विमान भारत को इतना पसंद आया कि दोबारा 113 विमानों का नया ऑर्डर गया था.

CEO ने दिया हर सवाल का जवाब

सूत्रों के मुताबिक फ्रांस की कंपनी दसॉल्ट एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने समाचार एजेंसी ANI को दिए गए इंटरव्यू में इस डील पर उठ रहे हर एक सवाल का जवाब दिया. इस इंटरव्यू में उन्होंने राहुल गांधी द्वारा लगाए गए हर आरोप को झूठा करार दिया.

एरिक ट्रैपियर ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा जो भी आरोप लगाए जा रहे हैं, वह बिल्कुल निराधार हैं. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने दसॉल्ट और रिलायंस के बीच हुए ज्वाइंट वेंचर (JV) के बारे में सरासर झूठ बोला है. उन्होंने कहा कि डील के बारे में जो भी जानकारी दी गई है वह बिल्कुल सही है, क्योंकि वे झूठ नहीं बोलते हैं.

LEAVE A REPLY