भाजपा नेता ने मुस्लिम वोटरों को दी धमकी ,कहा- वोट नहीं दोगे तो रह नहीं पाओगे

बाराबंकी जिले के नवाबगंज इलाके में भाजपा नेता ने चुनावी सभा को संबोधित करते हुए इलाके के मुस्लिम वोटरों दे डाली खुली धमकी कहा, वोट दोगे तो मज़े में रहोगे वरना परेशान हो जाओगे.  

उत्तर प्रदेश के नगर निगम चुनावों में भाजपा के एक प्रत्याशी के पति द्वारा मुस्लिम मतदाताओं को खुलेआम धमकाने का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के अनुसार, गत 13 नवंबर को बाराबंकी में भाजपा की एक जनसभा के दौरान पार्टी नेता आरके श्रीवास्तव ने सरेआम मुस्लिम मतदाताओं को धमकी दी। उन्होंने कहा कि वे लोग भाजपा को ही वोट दें वरना परिणाण भुगतने को तैयार रहे। भीख नहीं मांग रहा हूं। अगर वोट दोगे तो सुखी रहोगे। अगर नहीं दोगे तो जो कष्ट उठाना पड़ेगा, उसका अंदाजा तुमको खुद लग जाएगा। हालांकि यह सब वाक्या तब हुआ जब योगी सरकार के दो मंत्री भी मंच पर आसीन थे। इतना ही नहीं यहां बता दें कि भाजपा नेता रंजीत कुमार श्रीवास्तव खुद प्रत्याशी नहीं बल्कि उनकी पत्नी यहां से प्रत्याशी हैं।

हार्दिक के सेक्स टेप के बाद भी कांग्रेस हार्दिक के साथ क्यों ?देखें

एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित खबर के अनुसार, बाराबंकी जिले के नवाबगंज इलाके में गत 13 नवंबर को भाजपा की एक जनसभा हुई। इस दौरान राज्य की भाजपा सकरार के दो मंत्री दारा सिंह चौहान और रमापति शास्त्री भी मौजूद थे। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए नेता रंजीत कुमार श्रीवास्तव ने कहा- अब समाजवादी की सरकार नहीं है। यहां पर तुम जाकर डीएम, एसपी से काम नहीं करवा सकते हो। यहां पर तुम्हारा कोई नेता तुम्हारी मदद नहीं कर सकता है। सड़क, खड़ंजा, नाली नगरपालिका का काम है।  दूसरी भी कुछ मुसीबतें तुम्हारे ऊपर आ सकती हैं। मुसीबत में पड़े तो भाजपा सरकार बचाने नहीं आएगी।

हड्डी को कमजोर करता है वायु प्रदूषण

इसी क्रम में रंजीत कुमार ने कहा कि आज तुम्हारा कोई पैरोकार भाजपा के अंदर नहीं है। ऐसे में बिन भेदभाव तुम्हें भाजपा उम्मीदवार को जिताना होगा। ये जो दूरी तुम बढ़ाने जा रहे हो, अब अगर ये दूरी बनी रही तो, समाजवादी पार्टी बचाने नहीं आएगी। भाजपा का शासनकाल है, जो कष्ट तुमको नहीं झेलने पड़े थे, वो कष्ट उठाने पड़ सकते हैं। इतना ही नहीं रंजीत कुमार ने धमकी भरे अंदाज में कहा मैं मुसलमानों से कह रहा हूं, वोट दे देना। भीख नहीं मांग रहा हूं। अगर वोट दोगे तो सुखी रहोगे। अगर नहीं दोगे तो जो कष्ट उठाना पड़ेगा, उसका अंदाजा तुमको खुद लग जाएगा।

इस पूरे घटनाक्रम पर जब बाराबंकी के जिलाधिकारी अखिलेश तिवारी ने पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे भी इस बात की शिकायत मिली है। हम इस जनसभा का वीडियो देखेंगे इसके बाद जल्द ही आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

इस्लामी बैंकिंग को भारतीय रिज़र्व बैंक ने नकार दिया

चुनाव के समय में नेता इस तरह की बयानबाज़ी करने से बाज़ नहीं आते और अपनी राजनीति चमकाने के लिए किसी भी हद तक गिर जाने के लिए तैयार रहते हैं.चुनाव आयोग को इन नेताओ को सख्ती के साथ पेश आना होगा, जिससे कि इस तरह की बयानबाज़ी से नेता बाज़ आ सकें.

LEAVE A REPLY