क्या बीजेपी गुरदासपुर में सीट बचा पाएगी

गुरदासपुर लोकसभा उपचुनाव के लिए जारी मतदान में जहां कांग्रेस अपनी स्थिति को मजबूत मानकर चल रही है, वहीं भाजपा के लिए यह सीट प्रतिष्ठा का प्रश्न है। अभिनेता से नेता बने भाजपा के नेता विनोद खन्ना का इसी वर्ष अप्रैल में निधन हो गया था जिसके बाद खाली हुई सीट के लिए कांग्रेस, आम आदमी पार्टी और भाजपा के उम्मीदवार आमने-सामने हैं। कांग्रेस ने अपने पंजाब इकाई प्रमुख सुनील जाखड़ को मैदान में उतारा है, वहीं भाजपा ने कारोबारी स्वर्ण सलारिया को खड़ा किया है। आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार हैं मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) सुरेश खजूरिया।

सुबह से ही मतदान केंद्रों पर मतदाता उमड़ पड़े। चुनाव में 11 प्रत्याशी खड़े हैं। निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि संसदीय क्षेत्र के कुल 15,22,922 मतदाताओं में से 7,12,077 महिलाएं हैं और 14 मतदाता थर्ड जेंडर के हैं। क्षेत्र में अर्द्धसैनिक बलों की करीब 30 कंपनियां और पंजाब पुलिस के सात हजार से अधिक पुलिसर्किमयों की तैनाती की गई है। इस संसदीय सीट के लिए मतदान सुबह आठ बजे से शुरू हुआ और शाम पांच बजे तक मत डाले जाएंगे। 1,257 स्थानों पर कुल 1,781 मतदान केंद्र बनाए गए हैं, जिनमें से 457 को संवेदनशील और 83 को अति संवेदनशील घोषित किया गया है।

अधिकारी ने बताया कि सभी मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी का इस्तेमाल किया जाएगा। मतगणना 15 अक्तूबर को होगी और परिणाम भी उसी दिन घोषित किए जाएंगे। फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 177 में से 77 सीटों पर जीत दर्ज की थी और पार्टी अपनी इस रफ्तार को बरकरार रखना चाहती है। वहीं भाजपा भी विनोद खन्ना द्वारा चार बार जीती गई इस सीट को किसी भी हाल में गंवाना नहीं चाहती है। चुनाव आयोग ने इस उपचुनाव में वैकल्पिक पहचान पत्र के इस्तेमाल की अनमुति दी है।

गौरतलब है कि पंजाब के गुरदासपुर में होने वाले उपचुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी को एक बड़ा झटका लगा था। पार्टी के उम्मीदवार स्वर्ण सलारिया पर पर कुछ दिनों पहले ही एक महिला ने रेप का आरोप लगाया गया था। महिला का कहना था कि नेता पिछले 32 साल से मेरा शारीरिक शोषण कर रहा था। महिला ने श्रवण सलारिया के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाते हुए कहा कि शादी का झांसे देकर मेरे साथ रेप कर रहा था। महिला ने सलारिया के साथ अपनी अतंरंग पलों की तस्वीरें भी सार्वजनिक की थीं। ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं।

LEAVE A REPLY