आय प्रमाण पत्र के आधार से लिंक होने से, बड़ी संख्या में छात्र-छात्रवृति योजना का लाभ नहीं ले पाएंगे

प्रदेश में छात्र वृति योजना का लाभ देने के लिए अधिकतम सालाना आय सीमा बढ़ने पर गंभीरता से विचार किया जा रहा है. अभी ये योजना का लाभ सिर्फ उन परिवारों को मिलता है जिनकी सालाना आय दो लाख तक है . अब इसे 2.5 लाख करने पर सहमती बन चुकी है.

समाज कल्याण निदेशालय इस बाबत प्रस्ताव तैयार करवा रहा है . ये बढ़ोत्तरी अगले सत्र से लागू होगी छात्रवृति और शुल्क प्रतिपूर्ति योजना के तहत हर साल क़रीब 60 लाख छात्र क़रीब ऑनलाइन आवेदन करते हैं . केंद्र सरकार सालाना ढाई लाख आय वाले परिवारों को योजना का लब देती है , पर यूपी में 2 तक की आय वाले ही आवेदन कर सकते हैं.

हालही में राज्य सरकार ने सभी लाभार्थियों के खातें बैंक से लिंक करने के निर्देश दिया हैं. इतना ही नहीं राजस्व विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध आय प्रमाण पत्र भी आधार नंबर दर्ज होगा इससे आयकर विभाग की वेबसाइट पर जा कर इनकम टैक्स रिटर्न भरने वाले परिवारों का पूरा डाटा मिल जायेगा.और गलत आय दिखा कर योजना का लाभ लेने वाले पकड़ में अ जायेंगे .

समाज कल्याण के अधिकारिओं का मानना है कि आधार लिंक होने से सही आय की जानकारी मिलने से बड़ी संख्या में छात्र योजना  के दाएरे से बहार हो जायेंगे . इसके चलते योजना के लिए आय सीमा 50 हज़ार तक बढ़ाना मुमकिन हो सकेगा .

 

LEAVE A REPLY