गुजरात चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते प्रधानमंत्री, 17वीं बार गुजरात दौरे पर

गुजरात चुनाव में पूरी ताकत झोंकने को तैयार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोई भी कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। इसी मद्देनज़र महीने भर में तीसरे गुजरात दौरे पर पहुंचे प्रधानमंत्री 7 और 8 अक्टूबर को दो दिन गुजरात में रहेंगे। इस दौरान वह अपने पैतृक गांव वडनगर में एक मेडिकल कॉलेज, अस्पताल और कुछ अन्य विकास योजनाओं का उद्घाटन करेंगे। दिलचस्प बात है की पीएम मोदी का तीन साल में ये 17वां गुजरात दौरा है। प्रधानमंत्री का स्वागत करने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी भी एयरपोर्ट पहुंचे।

पीएम शनिवार सुबह करीब 9.30 बजे जामनगर पहुंच चुके हैं. जामनगर से वे सुबह 10.20 बजे द्वारिका हेलीपेड पहुंचें। सुबह 10.50 बजे वह गुजरात दौरे की शुरुआत द्वारकाधीश मंदिर में दर्शन के साथ करेंगे। दरअसल, गुजरात में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव की तारीख के ऐलान से पहले प्रधानमंत्री मोदी सरकार की कई योजनाओं का भूमिपूजन एवं शिलान्यास कर रहे हैं और कुछ परियोजनाओं का लोकपर्ण भी कर रहे हैं।

सुबह 11.00 बजे से दोपहर 12.00 बजे तक द्वारका में वह बेत और ओखा के बीच सेतु तथा दूसरी परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे। यहां वह जनसभा को भी संबोधित करेंगे। पीएम दोपहर को 1.40 बजे चोटीला जाएंगे, जहां वह राजकोट के ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे, छह लेन वाले अहमदाबाद-राजकोट राष्ट्रीय राजमार्ग और चार लेन वाले राजकोट-मोरबी राज्य मार्ग की आधारशिला रखेंगे।

शाम को 4.00 बजे पीएम चोटीला से गांधीनगर जाएंगे। जहां वह आईआईटी-गांधीनगर की नई इमारत का उद्घाटन करेंगे। वे यहां हेल्थ वर्करों को ई टेबलेट देंगे और प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान की शुरुआत करेंगे। इस अभियान का मकसद ग्रामीण इलाकों में लोगों को डिजिटल तौर पर साक्षर बनाना है।

पीएम मोदी राजभवन मे रात बिताएंगे, रविवार सुबह वडनगर जाएंगे। वहां इंद्रधनुष मिशन की शुरुआत करेंगे। स्वास्थ्यकर्मियों को टैबलेट वितरित करने का भी उनका कार्यक्रम है। मोदी रविवार दोपहर को ही भरूच जाएंगे जहां वह नर्मदा नदी पर बनाए नए बैराज के निर्माण की आधारशिला रखेंगे। वह उधाना (सूरत) और जयनगर (बिहार) के बीच चलने वाली अंत्योदय एक्स्रपेस को हरी झंडी दिखाएंगे। दिल्ली वापस आने से पहले वह एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे।

विपक्ष की कड़ी तैयारी से चिंतित बीजेपी हाईकमान कोई भी रिस्क नहीं लेना चाहती। क्योंकि पिछले कुछ दिनों में राहुल गांधी द्वारा चलायी गयी सोशल मीडिया कैंपेन ‘विकास पगला गया है’ से बीजेपी की छवि पर नकरात्मक प्रभाव पड़ा है, जिसके कारण मोदी अपने राज्य में कोई भी लापरवाही नहीं बरतना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY