बुरा फंसा लालू परिवार, नहीं बेच पाएगा अपनी ही ज़मीन

शुक्रवार को सीबीआई ने तेजस्वी यादव से भ्रष्टाचार के चलते करीब सात घंटे पूछताछ की। तेजस्वी पर लालू के केंद्रीय रेलमंत्री रहते भ्रष्टाचार में लिप्त होने का आरोप है। तेजस्वी पर पिता के रेल मंत्री रहते आईआरसीटीसी के दो होटलों के ठेके में धांधली का आरोप है।

राबड़ी देवी को फुलवारी शरीफ मौजा के सगुना में 2.5 डिसमिल जमीन उनके विधान परिषद के चपरासी ललन चौधरी ने दान में दी थी। ललन चौधरी लालू यादव के घर काम भी करते थे। मामले में चौधरी का कहना है कि उन्होंने ये जमीन एक किसान से करीब तीस लाख रुपए में खरीदी थी। इस मामले में सीबीआई चौधरी से पहले ही पूछताछ कर चुकी है।

चौधरी ने कथित तौर पर 62 लाख रुपए में खरीदी 7.5 डिसिमल जमीन लालू की बेटी हेमा यादव को दी थी। स्पष्ट है कि ललन चौधरी की आय किसी भी स्त्रोत से इतनी नहीं है कि वो इस तरह की संपत्तियां खरीद कर लालू यादव के परिवार को दान करें।

इस मामले में लालू बीते गुरुवार को पांच जांच एजेंसियों के सामने पेश हुए थे। उन्हीं की तरह तेजस्वी भी सुबह 11 बजे कोर्ट पहुंच गए थे। इस पहले इनकम टैक्स डिपार्टेमेंट ने भी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी और उनकी बेटी हेमा यादव को गिफ्ट में मिली जमीन को 90 दिन के लिए अस्थाई रूप से जब्त कर लिया है। लालू परिवार इससे अब जमीन नहीं बेच पाएगा।

 

LEAVE A REPLY