शौचालय में ही खोल दी दुकान

प्रदेश को खुले से शौचमुक्त बनाने के लिए केंद्र और राज्य सरकार तमाम प्रयास कर रही है . इसके लिए भारी भरकम बजट भी आवंटित हो रहा है . अभियान पर  लगातार आला अधिकारियो के माध्यम से नज़र भी रखी जा रही है . लेकिन जन सहभागिता की कमी से अभियान के सफल होने पर तमाम तरह की आशंका जतायी जाने लगी है .

इस अभियान की ज़मीनी हकीक़त बांगरमऊ तहसील के हैबत पुर गाँव में देखी जा सकती है . बांगरमऊ तहसील के ग्राम हैबतपुर में कुल 200 परिवार रहतें हैं . इनमें 175 परिवारों के लिए शौचालय बनाये जा चुके हैं . अधिकारियो का दावा है कि आधे से ज़्यादा परिवार्रों में 8 सदस्य हैं  लेकिन परिवार शौचालय का इस्तेमाल नहीं करता .

देशराज ने शौचालय में परचून की दूकान खोल रखी है , हालाँकि देशराज का कहना है कि जब तक शौचालय की रंगाई पुताई नहीं हो जाती वह तभी तक दूकान का सामन शौचालय के अन्दर रखे है . लेकिन पुरे गाँव में शौचालय के अन्दर दूकान चर्चा का विषय बनी हुई है .

LEAVE A REPLY