स्पेन की जनता चाहती है कैटेलोनिया देश से अलग हो

कैटेलोनिया के नेता कार्ल्स पुईग्देमोंत की सरकार ने सोमवार को दावा किया कि 90 फीसदी मतदाताओं ने प्रतिबंधित जनमत संग्रह में आजादी का समर्थन किया है। इसके साथ ही ने पुईग्देमोंत ने कहा कि क्षेत्र ने अब स्पेन से अलग होने का अधिकार हासिल कर लिया है। हालांकि स्पेन के प्रधानमंत्री मारिआनो राजॉय ने रविवार के जनमत संग्रह को प्रतिबंधित घोषित किया। उन्होंने कहा, ‘‘कैटेलोनिया में आत्म-निर्णय जनमत संग्रह नहीं हुआ।’’ यह क्षेत्र आजादी के मुद्दे पर बहुत गहरे से बंटा है।

स्पेन सरकार का कहना था कि वह इस जनमत संग्रह को बंद कराने के लिए प्रतिबद्ध है। देश की संवैधानिक अदालत ने इसे अवैध करार दिया था। जनमत संग्रह के दौरान मतपत्र पर केवल एक प्रश्न था, “क्या आप कैटेलोनिया को स्पेन से अलग कर एक अलग राष्ट्र बनाना चाहते हैं?” इस संबंध में ‘हां’ और ‘नहीं’ की दो मतपेटियां हैं। इस दौरान बार्सिलोना में सुरक्षा बल गार्डिया सिविल ने मतदाताओं को मतदान केंद्रों में घुसने से रोका गया। प्रशासन ने मतपत्रों, मतदाता सूची और अभियान सामग्रियों को जब्त कर लिया और हजारों की संख्या में अतिरिक्त पुलिस और गार्डिया सिविल बल को क्षेत्र में भेजा है। इसके साथ ही साथ जनमत संग्रह का आयोजन करा रहे कैटालन के वरिष्ठ अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया। बीते कुछ दिनों में प्रशासन ने मतदान स्थल ऐप के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी और मतगणना सॉफ्टवेयर को जब्त कर लिया था।

गौरतलब है कि स्पेन से अलग होकर एक स्वतंत्र देश कैटेलोनिया के गठन के मुद्दे पर रविवार को हुए जनमत संग्रह में शुरुआत में ही उस समय अफरातफरी मच गई थी जब स्पेन की राष्ट्रीय पुलिस ने मतदान केंद्रों में पहुंचकर मतपेटियों और मतपत्रों को जब्त करना शुरू कर दिया। सीएनएन के मुताबिक, गिरोना के एक मतदान केंद्र में पुलिस खिड़की का शीशा तोड़कर अंदर घुसी। इसी मतदान केंद्र पर क्षेत्रीय राष्ट्रपति कार्ल्स पुइगडेमोंट मतदान करने वाले थे। स्पेन के गृह मंत्रालय ने ट्वीट कर कहा, “पुलिस अवैध जनमत संग्रह के संबंध में न्यायिक आदेश और कानून के तहत मतपेटियों को जब्त कर रही है।”

यूनियनों और कैटेलोनियाई संगठनों ने मंगलवार को पूरे क्षेत्र में हड़ताल की घोषणा की थी, जिससे तनाव और बढ़ गया। उन्होंने कहा कि यह हड़ताल ‘‘अधिकारों और आजादी के गंभीर हनन’’ की वजह से की गई है। उन्होंने लोगों से कैटेलोनिया में सड़कों पर उतरने को कहा। यह क्षेत्र स्पेन के विकास का प्रमुख केंद्र है। स्पेन की केंद्र सरकार ने इस मतदान को ‘‘नाटक’’ बताया है। इस दौरान पुलिस की कार्रवाई के चलते 844 लोगों को चिकित्सीय सहायता की जरूरत पड़ी जिनमें कम से कम 92 घायल शामिल हैं। गृह मंत्रालय ने कहा कि 33 पुलिसर्किमयों को संघर्ष की वजह से उपचार की जरूरत पड़ी।

 

 

LEAVE A REPLY