धोनी का आलोचकों को करारा जवाब, इस साल 79 के एवरेज से बनाए 632 रन

Hallabol Today – टीम इंडिया के पूर्व कैप्टेन कूल अपनी कप्तानी छोड़ने के बाद से ही अपनी परफॉर्मेंस को लेकर सवालों में घिरे महेंद्र सिंह धोनी ने इस साल अपनी भूमिका में इस कदर सुधार किया है कि वो टीम के लिए मज़बूत दीवार बन गए हैं.

धोनी ने इस साल 79 के एवरेज से 20 मैचों में 15 इनिंग में 632 रन बनाए हैं। श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में भारत की जीत में उनका अहम रोल रहा। धोनी की परफॉर्मेंस में आए बदलाव ने सभी को इम्प्रेस किया है। कोच रवि शास्त्री और पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी कहा है कि धोनी को 2019 के वर्ल्ड कप में खेलना चाहिए। भारत के सबसे कामयाब टेस्ट और वनडे कप्तान धोनी को श्रीलंका के खिलाफ सीरीज से पहले चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद की वॉर्निंग भी झेलनी पड़ी थी। प्रसाद ने कहा था कि जब तक धोनी परफॉर्म करते रहेंगे टीम में बने रहेंगे। इसके बाद धोनी ने पिछले मैचों में ना सिर्फ बैट से बल्कि विकेट के पीछे भी करिश्माई प्रदर्शन किया।

सौरव गांगुली ने धोनी के बदली बैटिंग स्टाइल पर कहा, ‘जब खिलाड़ी इतना लंबा खेल लेते हैं जैसे धोनी भारत के लिए 300 वनडे पूरे कर चुके हैं तो वह जानते हैं कि रन कैसे बटोरे जाते हैं। धोनी के खाते में 9000 से ज्यादा रन हैं और जब वह अपना बल्ला थामेंगे तो इसमें और इजाफा होगा।‘ स्टम्प्स के माइक्रोफोन ने वो आवाजें पकड़ी हैं जो धोनी इंडियन स्पिनर्स को चेन्नई में हुए पहले वनडे में बोल रहे थे। धोनी कुलदीप और लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल को यह बोलते सुनाई दिए, वो मारने वाला डाल ना, अंदर या बाहर कोई भी। घुमने वाला डाल।
जब ग्लेन मैक्सवेल ने कुलदीप के एक ओवर में तीन छक्के और एक चौका मारकर 22 रन बटोरे तो धोनी इससे नाखुश नजर आए। उन्होंने कुलदीप से कहा, स्टम्प पे मत डाल, अरे बाहर डाल, इसको इतना आगे नहीं। इसके बाद चहल की भी बारी आई जो शायद धोनी की सलाह नहीं सुन रहे थे। धोनी ने कहा, तू भी नहीं सुनता है क्या, ऐसे डालो। इन सलाहों का नतीजा यही हुआ कि चहल ने तीन विकेट और कुलदीप ने दो विकेट लेकर आस्ट्रेलिया की कमर तोड़ दी।
डेविड वार्नर को आउट करने वाले चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव ने मैच के बाद कहा था कि धोनी ने उन्हें बताया कि वार्नर को कहां गेंद डालनी है।

LEAVE A REPLY