विज्ञान का इतिहास बदलने वाले भारतीय

भारत के मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री सत्यपाल सिंह के उस बयान से लोगों की भौहें तन गई हैं जिसमें उन्होंने इंजीनियरिंग के छात्रों को भारत के प्राचीन वैज्ञानिक खोजों के बारे में सिखाने की ज़रूरत बताई है. उनका कहना था कि विमान का पहली बार ज़िक्र प्राचीन हिंदू ग्रंथ रामायण में मिलता है.

राजधानी दिल्ली में एक इंज़ीनियरिंग पुरस्कार समारोह में मुख्य अतिथि सत्यपाल सिंह ने वहां उपस्थित लोगों से यह भी कहा कि राइट ब्रदर्स से आठ साल पहले ही एक भारतीय शिवाकार बाबूजी तलपड़े ने हवाई जहाज़ का आविष्कार कर डाला था.

शिवाकार बाबूजी तलपड़े की इस कथित उपलब्धि की बात पर सिंह की बातों का सोशल मीडिया पर मज़ाक उड़ाया गया. हालांकि, ये भी सही है कि विज्ञान के क्षेत्र में प्राचीन भारत के योगदान के विषय में ऐसी बातें या विमान का आविष्कार करने की बात कहने वाले वो पहले भारतीय मंत्री नहीं हैं.

साल 2015 में एक प्रतिष्ठित विज्ञान सम्मेलन के दौरान एक वक्ता ने अपने दर्शकों से कहा था कि हवाई जहाज़ का आविष्कार सात हज़ार साल पहले भारद्वाज ऋषि ने किया था. रिटायर्ड कैप्टन और पायलट ट्रेनिंग संस्थान के प्रमुख आनंद बोडास ने भी ऐसा दावा किया था कि आज के विमानों से कहीं अधिक उन्नत पहले के विमान थे जो दूसरे ग्रहों पर भी जाने में सक्षम थे.

 

LEAVE A REPLY