गौरी लंकेश हत्याकांड में हुआ बड़ा खुलासा

बहुचर्चित गौरी लंकेश हत्याकांड में एसअाईटी को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से हमलावर की ऐसी तस्वीर निकाली है, जिसमें वो साफ दिखाई दे रहा है। बाइक सवार हेलमेट पहने हमलावर ने पूरी बांह की शर्ट और पैंट पहने हुए है, उसके गले में किसी कंपनी का आईकार्ड और दाहिने हाथ में बैंड है।

सीसीटीवी फुटेज से पुलिस को ठोस सबूत हाथ लगे हैं. पुलिस 600 डिजिटल वीडियो रिकॉर्डिंग का विश्लेषण किया है. इसके साथ ही कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से भी पूछताछ की गई है, जिन्होंने बाइक सवार बदमाश की पुष्टि की है। उन्होंने गौरी के मर्डर के बाद मौका-ए-वारदात से हमलावरों को भागते हुए देखा था, एसआईटी चीफ ने क्राइम सीन का कई बार दौरा किया है।

पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि वारदात को अंजाम देने से पहले हमलावरों ने गौरी के घर की रेकी थी। बाइक से गौरी के घर के तीन चक्कर लगाए थे, मुख्य आरोपी की उम्र करीब 35 साल बताई जा रही है, उसने 7.65MM पिस्टल से इस वारदात को अंजाम दिया है। इसी तरह के पिस्तौल से एमएम कलबुर्गी को भी गोली मारी गई थी।

वहीं, हिंदू जागरण वैदिक और सनातन संस्था ने संयुक्त प्रेंस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उनके संगठन के किसी भी सदस्य का इस केस में कोई हाथ नहीं है। दोनों संस्थाओं ने वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की निंदा की है। उनका कहना है कि इस वारदात के बाद जानबूझकर उनकी संस्थाओं का नाम घसीटा जा रहा है, वे हर तरह की जांच के लिए तैयार हैं।

अब तक की जांच से यह बात सामने अायी है कि हत्या की साजिश बहुत दिनों से चल रही थी। पूरी केस स्टडी करने के पश्चात ही घटना को अंजाम दिया गया है।

 

LEAVE A REPLY